Saturday, July 19, 2014

जौनपुर के मदरसे: सामाजिक क्रांति की एक झलक

http://beyondheadlines.in/2014/07/madrasa-a-glimpse-of-the-social-revolution/

मोदी सरकार के पहले बजट में मदरसों के आधुनिकीकरण के लिए सौ करोड़ रुपए निर्धारित किए गए तो सवाल उठा कि इन पैसों से हासिल क्या होगा?
मदरसे मुसलमानों को कट्टरपंथी बनाते हैं. जेहादी पैदा करते हैं. यहां पढ़ने वाले बच्चे सिर्फ़ मस्जिदों-मदरसों के मौलवी ही बन पाते हैं. ऐसी ही कई और धारणाएं हैं, जो मदरसों के बारे में आम हैं.
लेकिन क्या ये धारणाएं मदरसा शिक्षा की पूरी हक़ीक़त हैं? इसी सवाल को ज़हन में लिए मैं पहुंचा जौनपुर के कई मदरसों में… यहां न सिर्फ़ ये धारणाएं टूटी, बल्कि मदरसा शिक्षा के ज़रिए संभव एक सामाजिक क्रांति की झलक भी दिखी.
ज़िला जौनपुर के जलालपुर ब्लॉक मझगंवा कला गांव में है मदरसा अब्र-ए-रहमत… 1985 से संचालित इस मदरसे में 156 बच्चे पढ़ते हैं. 15 रुपए महीना की फ़ीस में यहां आठवीं कक्षा तक की शिक्षा दी जाती है.
यहां बच्चे सिर्फ़ क़ुरान की तिलावत ही नहीं, बल्कि नृत्य और योगा की शिक्षा भी लेते हैं. पूर्वी उत्तर प्रदेश के इस मदरसे में गंगा-ज़मुनी तहज़ीब अपनी पूरी पाक़ीज़गी में नज़र आती है.
इस मदरसे में साठ प्रतिशत छात्र ग़ैर मुस्लिम हैं और 35 फ़ीसदी लड़कियां भी हैं. हालांकि ग़ैर मुस्लिम बच्चों पर यहां इस्लामी शिक्षा थोपी नहीं जाती है.
ये अलग बात है कि इस मदरसे में पढ़ने वाली हिंदू बच्चियां नात-ए-पाक़ को उसी संजीदगी और पाक़ीज़गी से पढ़ती हैं जैसे मुस्लिम बच्चे पढ़ते हैं.
©BeyondHeadlinesये जानना सुखद था कि यहां के बच्चों के ख़्वाब डॉक्टरी और सेना की वर्दी तक पहुंचते हैं. 12 साल के परवेज़ से जब मैंने पूछा कि क्या बनना चाहते हैं तो उसने बिना वक़्त गवाए कहा कि मैं आईपीएस बनना चाहता हं. ये भी एक बड़ी बात है कि 12 साल के बच्चे जानते हैं कि आईपीएस क्या होता है. उनकी क़िस्मत में क्या है ये वक़्त बताएगा. लेकिन हौसले बताते हैं कि उनकी परवाज़ ज़रूर ऊंची होगी.
हेमंत सरोज अब से पहले एक कान्वेंट स्कूल में पढ़ते थे. लेकिन उन्होंने भी इस मदरसे में दाख़िला लिया है. सरोज कहते हैं, “यहाँ पढ़ाई मेरे पुराने स्कूल से अच्छी होती है, इसलिए मैं यहां आया हूं.”
अभिषेक के पिता फल बेचते हैं. चौथी क्लॉस में पढ़ने वाले अभिषेक के गाँव में कोई दवाख़ाना नहीं है. इसलिए वो डॉक्टर बनना चाहते हैं. अभिषेक पूरी मासूमियत से कहते हैं कि मैं सिर्फ पैसा कमाने वालों से ही फ़ीस लिया करूंगा.
चौथी क्लॉस के ही शशिकांत के पिता ड्राइवर हैं और उनका ख़्वाब है सेना की वर्दी पहनकर अपने परिवार का नाम ऊँचा करना. रोहन भी पुलिस इंस्पेक्टर बनना चाहता है. रोहन के अलावा उसका एक भाई और दो बहने भी मदरसे में ही पढ़ती हैं.
©BeyondHeadlinesसहनपुर गांव के मकतब मदरसा क़ादरिया ने यहां की लड़कियों के लिए नए रास्ते खोले हैं. चौदह साल की शबाना कभी स्कूल नहीं गईं थी, लेकिन मकतब खुलने के बाद अब पढ़ाई कर रही हैं. वो अब अध्यापिका बनना चाहती हैं. सानिया की भी यही कहानी है. वहीं नाज़िया गांव के बच्चियों के लिए सिलाई सेन्टर खोलना चाहती है.
12 वर्षीय शाहरूख खान को सलमान खान पसंद है. लेकिन वो डॉक्टर बनना चाहता है. फिल्मों के बारे में वो बताता है कि उसने अभी पिछले दिनों सलमान खान की ‘जय हो’ फिल्म देखी थी. पूछने पर इस फिल्म से आपने कुछ सीखा तो वो बताता है कि हां! हर आदमी को तीन लोगों की मदद करनी चाहिए. मैं भी अपने दोस्तों की मदद करता हूं. और आगे भी मदद करना चाहता हूं.
शमशेर के घरवालों का यूं तो ठीकठाक कारोबार है, लेकिन उन्हें बच्चों के ज़हन को इल्म से रोशन करना पैसा कमाने से बड़ा काम लगता है. यही वजह है कि वे इस मकतब में बच्चों को पढ़ाते हैं.
स्नातक तक पढ़े शमशेर कहते हैं कि उनके पास सिर्फ़ इल्म की ही दौलत है और वो इसे बांटना चाहते हैं. इसीलिए जैसे ही मानव अधिकार जन निगरानी समिती इन्हें मदरसे के बच्चों को पढ़ाने के लिए कहा वो फौरन तैयार हो गए. शमशेर हर सुबह बच्चों के घर-घर जाते हैं और उन्हें बुलाकर मकतब लाते हैं.
ज़्यादातर छात्र भाट बिरादरी के हैं, इसलिए पढ़ाई पर ज़्यादा ज़ोर नहीं है. नाच-गाना करने वाले इस समुदाय के बच्चे मुश्किल मकतब तक लाए जाते हैं.
जौनपुर के कई मदरसों से लौटने के बाद मेरे ज़हन में एक बात तो साफ़ हो जाती है कि ये मदरसे न सिर्फ़ वंचित तबक़ों के बच्चों को शिक्षा दे रहे हैं, बल्कि समाज के अलग-अलग हिस्सों को क़रीब लाने में अहम भूमिका भी निभा रहे हैं.
उम्मीद है कि अब जब मदरसा शिक्षा पर सवाल उठाए जाएंगे तो ऐसे मदरसों के उदाहरण जवाब बनेंगे. (आगे भी जारी….)

Friday, July 18, 2014

‘Banaras Convention’ for a comprehensive, medley, plural and inclusive culture

Heartiest Greeting from plural and inclusive Banaras!

Varanasi, one of the oldest and continuously inhabited cities in the world is known also as Banaras or Kashi and incorporates the different school of thoughts, religions which makes it the centre of attraction among people across the globe.

One side it is known as the prominent city for followers of Hindu religion and on the other hand it is known also as the place where Lord Buddha delivered his first sermon[i] (dhamma chakkra parivartan) in 528 BC. It is one of the holy cities of Jainism, and one of the epicentres of the Bhakti movement (a current dating back to Hindu medieval times very close to Sufi Islam, ed.) Guru Nanak Dev, founder of Sikhism, visited Varanasi in 1507 and was inspired by the city. The three Tirthankars[ii] of Jain religion were also born at this place. Thus Varanasi holds equally high place among followers of Hindu and other religions.

Varanasi has been the birthplace and work place for Sant Kabir[iii], Sant Raidas[iv] and Sen Nai, opposing sectarian thinking, communalism and casteism. They established the dignity of labour with spiritualism. Maulana Alvi brought here the world famous Banarsi silk artisan saree work that now has a Bollywood celebrity as its brand ambassador. Banaras has been home to several great personalities from the field of art, culture, music and literature.

A poet-saint, reformer and philosopher Tulsidas[v]' doctrine has been described as an assimilation and reconciliation of the diverse tenets and cultures of Hinduism taught reconciliation. Munshi Premchand[vi], an Indian writer famous for his modern Hindustani literature was famous for both his Hindi and Urdu writings. Great author Bhartendu Harishchandra, Jai Shankar Prasad, Dr Shyam Sunderdas and Acharya Ramchandra Shukla have had Baranas as their home.

The city has had four Bharat Ratna(the highest civilian award of the Republic of India)[vii] recipients too. The Shehnai maestro Ustad Bismillah Khan[viii], Lal Bahadur Shastri[ix] the second prime minister of India, Pt Ravi Shankar[x] the renowned Sitar player and Bhagwan Das[xi] an Indian Theosophist who was allied with the Hindustani Culture Society and was active in opposing rioting as a form of protest. For a time he served in the Central Legislative Assembly of British India. As an advocate for national freedom from the British rule, he was often in danger of reprisals from the Colonial government. He was the fourth recipient of India's highest civilian award. He established the Kashi Vidyapeeth in association with Mahatma Gandhi.

In the 16th century, Varanasi experienced a cultural revival under the Muslim Mughal emperor Akbar who invested in the city, and built two large temples dedicated to Shiva and Vishnu. The Raja of Poona established the Annapurnamandir and the 200 metres (660 ft) Akbari Bridge was also completed during this period. The earliest tourists began arriving in the city during the 16th century. In 1665, the French traveller Jean Baptiste Tavernier described the architectural beauty of the Vindu Madhava temple on the side of the Ganges. The road infrastructure was also improved during this period and extended from Kolkata to Peshawar by Emperor Sher Shah Suri; later during the British Raj it came to be known as the famous Grand Trunk Road.

Anie Basent[xii] the prominent British socialist, theosophist, women's rights activist, writer and orator and supporter of Irish and Indian self-rule was active in city and Theosophical Society of India. In April 1911, Besant met Pandit Madan Mohan Malaviya[xiii] and they decided to unite their forces and work for a common Hindu University at Varanasi. The Banaras Hindu University started functioning in October 1917 with the Central Hindu College as its first constituent college.

There is something special about the Banaras Gharana[xiv] of music that is based upon Indian classical instruments quoting Hindu Gods and Deities and it also incorporates the Sarod[xv] from Afghanistan, Shehnai[xvi] and Sitar[xvii] from Persian culture with the same pride as they do for the Indian instruments.

Reconciling various branches of Indian philosophy from Hinduism, Islam, Christianity, Buddhism, Bahai, Jainism, Sikhism, Sufism, and Jew all have an equal connect in this ancient city that believes Varanasi as a centre for pluralism and inclusive cultural based on reconciliation and diversity. This has been the heritage of pluralism and inclusive culture based on civilization of River Ganga.

 People across the world can learn on how to live and make co-existence meaningful even as there are differences among people yet they live in harmony as inclusive culture based on diversity and pluralism. It is therefore necessary that Varanasi or Banaras be given status of a Living HERITAGE CITY of inclusive and plural culture. It is necessary that the city of faith, belief, indigenous wisdom and logic be declared a heritage city. It is required that the water in the city should be Ganga Jal (water) and not Ganda (dirty) Jal. Sand (Bul) the favourite animal of Lord Shiv be given dignity/honour in the city and provide health support to them by trained veterinarian.

It is necessary that the old city be conserved as heritage as done in Singapore and the new city be developed with expansion plans for future in sight. The artisans of the city be given means of livelihood. Weaving, toy making, zardoji be promoted and helped grow. It is noticeable that police and military badges of various countries are made in Varanasi. Dress of Hindu Gods and Deities are made by Muslims in Varanasi. The history of pluralism, inclusive culture based on reconciliation be taught to young students in the schools. This is not important just for the sake of the past but for the very fact that in India and South Asia, there is a need to end communal/sectarian thinking based on caste and to bring “positive conflict resolution” that shall be the manner to develop complete concept of citizen in the region.

This shall help to put an end to torture and large scale organised violence arising out of casteism, sectarian thinking and communal fascism.

It is in this very context that a BANARAS SAMMELAN (Banaras Convention) has been called upon on August 09, 2014 at the Moolgadi Kabirchaura Math[xviii],Kabirchaura, Varanasi,India at 11 am. The programme shall start with the Panchnaad by Pt Vikash Maharaj[xix] (renowned Sarod player) and Pt Prabhash Maharaj (Tabla player).

You are cordially invited as a distinguished guest for the programme as an ambassador of inclusive and plural culture.

Yours truly
Lenin Raghuvanshi
General Secretary
PVCHR





समावेशी व बहुलतावादी संस्कृति के लिए बनारस कन्वेंशन

समावेशी और बहुलतावादी संस्कृति वाले शहर बनारस की तरफ से आपको हार्दिक अभिवादन!

   दुनिया के प्राचीनतम शहरों में एक बनारस/वाराणसी/काशी विभिन्न विचार धाराओं, धर्मों के साथ दुनिया भर में आकषर्ण का प्रतीक रहा है। जहां यह हिन्दूओं का पवित्र शहर है। वहीं महात्मा बुद्ध के प्रथम उपदेश (धर्म चक्र प्रवर्तन) के लिए बौद्ध धर्मावलम्बियों का प्रमुख केन्द्र भी है। जैन धर्म के तीन तीर्थंकर यहीं पर पैदा हुए। साम्प्रदायिकता व जातिवाद के खिलाफ संत कबीर, संत रैदास व सेन नाई की जन्मस्थली तथा कर्मस्थली यही रही है। वही दूसरी तरफ बनारस की बनारसी रेशमी साड़ी को मौलाना अल्वी साहब ले आये। समन्वयवाद के तुलसीदास, हिन्दी व उर्दू के महान कथाकार मुंशी प्रेमचन्द, महान साहित्यकार भारतेन्दु हरिश्चन्द्र, जयशंकर प्रसाद, डा0 श्याम सुन्दरदास एवं आचार्य रामचन्द्र शुक्ल और बनारस घराने के प्रसिद्ध संगीतकारों की जन्मभूमि व कर्मभूमि यही रही है। वाराणसी से चार भारत रत्न महान शहनाई वादक उस्ताद बिस्मिल्लाह खाँ, देश के दूसरे प्रधानमंत्री लाल बहादुर शास्त्री जी, महान सितार वादक प0 रविशंकर और स्वतंत्रता संग्राम, ऐनी बेसेन्ट व हिन्दुस्तानी कल्चरल सोसाइटी से जुड़े तथा महात्मा गांधी के साथ काशी विद्यापीठ की स्थापना करने वाले डा0 भगवान दास का जुड़ाव यहीं से रहा है। बनारस घराना के संगीतज्ञ जहाँ एक तरफ हिन्दू देवी-देवताओं की स्तुति पर अपना शास्त्रीय संगीत प्रस्तुत करते हैं। वही अफगानिस्तान से आये सरोद, ईरान से आये शहनाई व सितार का गौरव के साथ उपयोग करते है। भारतीय दर्शन की विभिन्न शाखाओं के साथ हिन्दू, इस्लाम, ईसाई, यहूदी, बहाई, बौद्ध, जैन, सिख, सूफी सभी का बनारस से जुड़ाव रहा है। जो बनारस को बहुलतावाद व समावेशवाद का केन्द्र बनाता है और यह केन्द्र ‘गंगा तटीय सभ्यता का हेरिटेज’ है। जिससे भारत ही नहीं, पूरी दुनिया के लोग सीख सकते है कि अपने अन्तर्विरोधों के साथ सहिष्णु व फक्कड़ तरीके से कैसे रहा जा सकता है। इसलिए जरुरी हो गया है कि ‘आस्था, विश्वास व तर्क के शहर’ बनारस को ‘हेरिटेज शहर’ घोषित किया जाये। उसे ‘गन्दा जल’ नहीं, ‘गंगा जल’ मुहैया कराया जाये और भगवान शिव के प्रिय साड़ को बनारस शहर में पीने का पानी और पशुचिकित्सक भी मुहैया कराया जाये। सिंगापुर की तर्ज पर पुराने शहर को हेरिटेज के तौर पर संजोया जाय और नये शहर को आधुनिक दुनिया की तरह बसाया जाय। वही शहर के बिनकारी, खिलौने के काम, जरदोजी को प्रोत्साहित व संरक्षित किया जाय। विदित है कि दुनिया के विभिन्न सेनाओं व पुलिस के बैज भी बनारस से बनते है। हिन्दू देवी-देवताओं के वस्त्र बनारस के मुस्लिम बुनकर बनाते हैं। बनारस के बहुलतावाद और समावेशी इतिहास को कम से कम बनारस के स्कूलों में जरुर पढ़ाया जाय। ये इसलिये जरुरी है कि केवल बनारस में ही नहीं, बल्कि भारत व दक्षिण एशिया में जातिवाद व साम्प्रदायिक सोच को खत्मकर इंसानों के बीच सकारात्मक एकता (Positive Conflict Resolution) स्थापित किया जा सके, जो नागरिक बनाने की प्रक्रिया को मजबूत कर सके। जिससे जातिवाद व सम्प्रदायवाद से होने वाली यातना व 


Tuesday, July 15, 2014

Why Benarasi weavers think Rs 50 cr from Budget 2014 won't reach them

"They provide the raw material and machinery to the weavers and buy their finished products at a cheap price. A weaver spends 15 to 20 days to weave a sari which is bought at Rs 600 or Rs 700 by the middle men and traders and then sold in the showrooms for exorbitant rates," said Lenin Raghuvanshi, founder, People's Vigilance Committee on Human Rights (PVCHR), an Indian non-governmental organisation that fights for the rights of marginalised people in Varanasi.

Idris Ansari, a seventh generation weaver of Benarasi silk sarees in Varanasi, said clusters are of no use to the real beneficiaries-the weavers. "The middle-men or the gaddidars gobble up all the money and become richer," Ansari said, adding that he cannot afford to buy silk from the government's silk depot which sells it to the handloom weaver. Incidentally, there is only one silk depot in Varanasi and is unable to meet the needs of all the weavers here.

Monday, July 14, 2014

NHRC summon to DM Allahabad on the issue of custodial death

Case Details of File Number: 10700/24/4/2013-AD
Diary Number 43554
Name of the Complainant DR. LENIN RAGHUVANSHI, SECRETARY GENERAL
Address PEOPLES VIGILANCE COMMITTEE ON HUMAN RIGHTS,
SA 4/2 A, DAULATPUR, VARANASI , UTTAR PRADESH
Name of the Victim RAJU @ BOLDER AND RANI D/O SURENDER
Address R/O NAYAPUR, PS. CANTT. ALLAHABAD , UTTAR PRADESH
Place of Incident CENTRAL JAIL ALLAHABAD , UTTAR PRADESH
Date of Incident 2/23/2013
Direction issued by the Commission The Commission has perused the notings and recommendations made by the Director General (Investigation). It has been informed that the Magisterial Enquiry into the death of undertrial prisoner Raju Bodar s/o Ram Avtar (25 yrs) is pending with the Additional Chief Judicial Magistrate, Court No. 08, Allahabad. The Commission has considered non-receipt of reports in this matter. The Registrar (Law) of the Commission is requested to write a DO letter to the District Judge, Allahabad, U.P., to get the Magisterial Enquiry expedited in this custodial death case. Further despite sufficient time and opportunity having been given the detailed enquiry Report, inquest proceedings, post mortem Report, complete Medical treatment Record, Health Screening Report of the inmate at the time of entry in jail. have also not been received. In these circumstances, let summons be issued for the personal appearance of District Magistrate, Allahabad, U.P. before the Commission on 29.8.2014 alongwith the requisite reports. In case the reports are received on or before 22.8.2014, the personal appearance of District Magistrate, Allahabad, UP shall stand dispensed with. Action Taken Additional Information Called for (Dated 6/20/2014 ) Status on 7/14/2014 Response from concerned authority is awaited.

Wednesday, July 09, 2014

[U.P. Press Club] June 26, 2014 UN Day in The Support of Torture Victims

लखनऊ. संयुक्त राष्ट्र में किये वादे के 30 वर्षो बाद भी भारत सरकार द्वारा अब तक इसे लागु न करना शर्मनाक है। यह बिल पिछले कई वर्षो से राज्य सभा में लंबित है और राजनितिक इक्षाशक्ति के आभाव में पास नहीं हो पा रहा है। विश्व यातना विरोधी दिवस के अवसर पर यु पी प्रेस क्लब में आयोजित सेमीनार में यह चिंता जाहिर की गयी। सेमिनार का आयोजन मानवाधिकार जन निगरानी समिति और यू पी वर्किंग जर्नलिस्ट यूनियन के संयुक्त तत्वावधान में किया गया।

Please Visit this link:
http://pvchrimages.blogspot.in/2014/07/00-26-2014-00000.html

Friday, July 04, 2014

बाल पंचायतः बड़ों की ज़िम्मेदारियाँ निभाते बच्चे

http://beyondheadlines.in/2014/07/baghwanala-bal-panchayat/

बनारस जंक्शन से महज़ 3 किलोमीटर की दूरी पर स्थित बघवानाला बस्ती की खास पहचान हैं यहां के समझदार बच्चे. ये बच्चे पूरे बनारस में जागरूकता का एक नया अलख जगा रहे हैं.  उत्तर प्रदेश की पहली बाल पंचायत भी यहीं क़ायम हुई है.
मुंशी प्रेमचन्द्र के नाम पर गठित यह बाल पंचायत हर महीने की 15 तारीख को राजा सुहैल देव जनमित्र शिक्षण केन्द्र में आयोजित होती है. यह बाल पंचायत फरमान जारी करती है जिन्हें इलाक़े के लोग मानते भी हैं.
इस बाल पंयायत की शुरूआत 2002 में हुई थी. अब इससे क़रीब 65 बच्चे जुड़े हैं. बीए सेकंड इयर की छात्रा 19 वर्षीय पुजा कुमारी इस बाल पंचायत की अध्यक्षा हैं. पूजा शुरुआत से ही इस बाल पंचायत से जुड़ी हुई हैं.
पूजा बताती है कि जो बातें या समस्याएं हम घर पर किसी से नहीं कह पाते, वो बातें हम इस पंचायत में एक दूसरे से बांटते हैं. वो बताती है कि इस पंचायत में सिर्फ अपनी समस्या ही नहीं, बल्कि सामाजिक समस्याओं का भी हल निकालने की कोशिशें की जाती हैं. बाल पंचायत का एक प्रमुख कार्य यह भी देखना है कि इलाके का कौन बच्चा स्कूल जा रहा है और कौन नहीं?
जब समस्या का हल बाल पंचायत की हद से बाहर होता है तो बच्चे अपने शिक्षकों से मदद लेते हैं या फिर संस्था के लोगों की मदद ली जाती है.
बाल पंचायत की उपलब्धियां
पंचायत की 17 वर्षीय उपाध्यक्षा ज्योति बताती हैं कि हमारे इस इलाके में 3 किलोमीटर के अंदर में कोई स्कूल नहीं है. इस स्कूल की मांग को लेकर बाल पंचायत के बच्चों ने बारिश में भींगते हुए धरना भी दिया. इस संबंध में ज़िलाधिकारी को ज्ञापन भी सौंप चुके हैं. और साथ में धमकी भी देकर आएं हैं कि अगर जल्द ही स्कूल नहीं खुला तो हम बच्चे आपके दफ्तर के बाहर ही आकर पढ़ेंगे.
बताते-बताते ज्योति के उत्साह पर थोड़ी सी मायूस हावी हो जाती है. वो बताती है कि बेसिक शिक्षा अधिकारी ज़मीन का बहाना बना रहे हैं. पर बच्चे भी स्कूल न खुलने तक अपनी माँग पर अड़े रहेंगे. इस सिलसिले में इस बाल पंचायत ने देश के राष्ट्रपति, पूर्व प्रधानमंत्री, यूपी के मुख्यमंत्री व शिक्षा मंत्री आदि को पत्र भी लिखा है.
इस बस्ती में आने के लिए एक भी पक्की सड़क नहीं थी. बाल पंचायत ने इसका भी विरोध किया. इसके लिए धरना दिया. दीवार लेखन किया. और नारा दिया –रोड नहीं तो वोट नहीं… शायद इनके विरोध का असर था कि चुनाव से पहले इस इलाके का मुख्य मार्ग बन गया.
बाल पंचायत की एक 13 वर्षीय सदस्य बेबी की बहन 5 सितम्बर, 2012 को कहीं खो गई. तो इन बच्चों ने ही पुलिस को बुलाया. चाइल्ड लाइन में फोन किया. पुलिस पहले एफआईआर दर्ज नहीं कर रही थी,  लेकिन बच्चों के दबाव में एफआईआर दर्ज हुआ.
इस बाल पंचायत ने इस इलाक़े में होने वाले बाल-विवाह को अब हमेशा के लिए रोक दिया है. दरअसल, इनके इलाके में एक बाल विवाह हुआ, जिसकी सूचना इस पंचायत को मिल गई. तुरंत आनन-फानन में पंचायत बुलाई गई. पंचायत की एक टीम लड़के के घर भी गई और विरोध किया. सारे नियम-कानून और लड़की पर पड़ने वाले प्रभाव को बताया. और साथ में धमकाया भी.
फिर अपने इलाके के चौरा माता मंदिर पर एक पंचायत में लड़की के पिता को बुलाकर तमाम बातों को रखा. लड़की के बाप से शपथ दिलाई कि लड़की को तभी विदा करेंगे जब उसकी उम्र 18 साल हो जाएगी. और आखिरकार ऐसा ही हुआ. एक सदस्य काफी गर्व से बताता है कि अब हमारे इलाके में किसी बाल विवाह कराने की हिम्मत नहीं होगी.
16 साल के मनीष जैसे ही अपना नाम मनीष कुमार यादव बताते हैं तो सारे बच्चे उसका विरोध करते हैं. उनका कहना था कि सिर्फ मनीष कुमार ही काफी है. यादव कहने की कोई ज़रूरत नहीं है. फिर बच्चों ने बताया कि हम जातिवाद के खिलाफ हैं. इसलिए हम ऐसा ही करते हैं.
मनीष हंसते-हंसते कहते हैं कि इस बार सदस्यों ने तय किया तो मैं अध्यक्ष पद का चुनाव लड़ूंगा और अध्यक्ष बनुंगा. मनीष बताता है कि हम हर साल व दिपावली में पटाखे का विरोध करते हैं. हम लोगों ने पहले खुद ही शपथ लिया हुआ है कि हम पटाखे नहीं चलाएंगे. वो आगे बताता है कि अब धीरे-धीरे इलाके के बच्चों पर असर हो रहा है.
बस्ती वाले खुश हो गए
9वीं में पढ़ने वाला राहुल बताता है कि हमारे बस्ती में पहले सरकारी बिजली थी, लेकिन अब प्राइवेट बिजली लग गई है, जो पहले से महंगी है. अब बस्ती वाले क्या करें? हमलोग मिलकर सभासद के पास गए. सभासद ने अपने हाथ खड़े कर लिए. तब हमने बच्चों को जमा किया और कचहरी पर धरना दिया. अगले दिन यह खबर मीडिया में छपी तो ज़िलाधिकारी ने बिजली का बिल कम कर दिया. अब बस्ती में कम कीमत पर बिजली आ गई, जिससे बस्ती वाले खुश हो गए.
मैगज़ीन व नाटक के ज़रिए समाज में जागरूकता
यह बाल पंचायत ‘बच्चों की दुनिया’ नामक अपना वार्षिक मैग्ज़ीन भी निकालती है. जिसमें बच्चों के पेटिंग, कार्टून, कहानियां व उनकी अपनी समस्याएं होती हैं. इसके साथ ही समाज में जागरूकता लाने के लिए यह पंचायत बाल विवाह, बाल मजदूरी, यौन हिंसा, साम्प्रदायिका आदि के खिलाफ नुक्कड़ नाटक भी करता है. अब तक 7 नाटक यह बच्चे तैयार कर चुके हैं. और उसे अलग-अलग जगहों पर पेश भी किया है.
 ©BeyondHeadlines
बच्चों की पढ़ाई में मदद
16 साल की गुंजा कुमारी बताती है कि उन्हें पढ़ने में थोड़ी दिक्कत होती थी, पर अब नहीं. क्योंकि जो समझ में नहीं आता है, उसे बाल पंचायत अध्यक्ष से पूछ लेती हूं. दीदी मुझे हमेशा पढ़ाई में मदद करती हैं.
बदलने लगे हैं हालात
राजा सुहैल देव जनमित्र शिक्षण केन्द्र की शिक्षिका हेमलता बताती हैं कि 2010 तक इस इलाके में कोई पढ़ा-लिखा नहीं था. पर अब चार लड़कियां ग्रेजुएशन कर रही हैं. और सब बाल पंचायत से जुड़ी हुई रही हैं.
वो बताती हैं कि इस पंचायत में दो को छोड़कर सभी की उम्र 10 साल से लेकर 16 साल के बीच में है. वो यह भी बताती है कि इस बाल पंचायत से जुड़ी चार बच्चियों की शादी हो चुकी है. बाल पंचायत के सदस्य आपस में चंदा करके शादी में गिफ्ट भी दिया था.
आगे हेमलता बताती हैं कि हर शनिवार को बाल सभा होती है, जिसमें बच्चे आपस में चुनाव करके बाल सभा का अध्यक्ष चुनते हैं. और फिर उसकी अध्यक्षता में बच्चे अपने-अपने कार्यक्रम पेश करते हैं.
बच्चे लिख रहे हैं नई इबारत
आज बघवानाला के इस बाल पंचायत ने आस-पास के इलाकों में एक नई इबारत लिखनी शुरू कर दी है. आस-पास के इलाकों में भी बच्चे प्रभावित होकर अपने यहां ऐसी ही बाल पंचायत स्थापित करने की मांग को लेकर वो लगातार बाल पंचायत के सदस्यों से मिल रहे हैं. बगल में इलाकों में भी बाल पंचायत की स्थापना अभी हाल के दिनों में हुई है. आज बच्चों की यह पंचायत अब पूरे देश के लिए एक मिसाल है.
बच्चों के इस बाल पंचायत को आरंभ कराने का सारा श्रेय जाता है पीपुल्स विजिलेन्स कमिटी ऑन ह्यूमन राईट्स (PVCHR) को… इसी संस्था ने सबसे पहले उत्तर प्रदेश के बनारस शहर के बघवानाला इलाके में इस पंचायत की शुरूआत की. अब इस संस्था ने उत्तर प्रदेश के 8 मदरसों में इस बाल पंचायत को आरंभ किया है.
बाल पंचायतों के नाम
अलग-अलग जगहों की बाल पंचायतों के अलग-अलग नाम हैं. जैसे सन्त कबीर बाल पंचायत, डॉ. भीमराव अम्बेडकर बाल पंचायत, लाल बहादुर शास्त्री बाल पंचायत, अब्राहम लिंकन बाल पंचायत, अबुल कलाम आजाद बाल पंचायत, सर सैय्यद अहमद खां बाल पंचायत, मदर टरेसा बाल पंचायत, हज़रत अहमद रज़ा बाल पंचायत, शेरशाह सूरी बाल पंचायत, अख्तर रजा बाल पंचायत…
उम्मीद हैं कि इन बाल पंचायतों के प्रयास बड़ों को भी अपनी ज़िम्मेदारी समझने के लिए प्रेरित करेंगे और एक सार्थक-शिक्षित और खुशहाल समाज का निर्माण हो सकेगा.



मोदी जी सुनिए…. एक था बजरडीहा…

http://beyondheadlines.in/2014/07/bazardiha/

बनारस के बुनकरों का मक्का कहा जाने वाला बजरडीहा अपने सबसे बुरे दौर से गुज़र रहा है. मोदी ने सांसद बनने से पहले जो लंबे-चौड़े वादे किए थे, उसमें बुनकरों का विकास बेहद अहम था. बजरडीहा के बुनकरों को उम्मीद थी कि मोदी के प्रधानमंत्री बनने से कुछ बेसिक सुविधाएं तो उनकी झोली में आएंगी ही, और वो कम से कम एक सम्मानजनक ज़िन्दगी के हक़दार हो सकेंगे. मगर ये सारे ख्वाब अब मिट्टी में मिल चुके हैं. बची है तो सिर्फ बजरडीहा के गलियों में उड़ती धूल जो अपने नाकाम मुस्तकबिल की बानगी पेश कर रहे हैं.
बजरडीहा… बनारस के बुनकरों का एक ऐसा क्षेत्र है, जिसमें 24-25 मुहल्ले आते हैं. यहां की जो तस्वीर है वो हिलाकर रख देती है. ढाई लाख की आबादी वाला यह इलाका इस क़दर बदहाली झेल रहा है कि विकास का नाम सुनते ही लोग थिथक कर खड़े हो जाते हैं. यहां का आधारभूत ढांचा बुरी तरह से चरमरा चुका है. सड़क, सफाई, पानी व बिजली चारों ही मोर्चों पर यहां के लोग त्राहि-त्राहि कर रहे हैं.
©BeyondHeadlines 55 वर्षीय नसीम अजमल खुद को ठगा हुआ महसूस करते हुए बताते हैं कि चुनाव में वोट लेने सारे नेता आए. सबने हम बुनकरों को अनगिनत सपना दिखाया. लेकिन आज भी हालात वहीं के वहीं हैं. कुछ भी बदलाव नहीं हुआ. हां! महंगाई ज़रूर बढ़ गई है. समझ नहीं आ रहा है कि हमारे घरों में खाना कैसे बने? हमारे बच्चे भूखमरी के शिकार हो रहे हैं.
वो बताते हैं कि यहां सीवर की समस्या सबसे बड़ी समस्या है. शुक्र है कि अभी बारिश नहीं हुई है… बरसात में तो यह इलाका नरक बन जाता है. हमारा घरों से निकलना मुश्किल हो जाता है. पीने के पानी की भी काफी किल्लत है. पानी का कनेक्शन हमें मिलता ही नहीं है. अभी पानी के लिए हम लोगों ने चंदा करके ट्यूबवेल लगवाया है.
23 वर्षीय शबताब शाहीन सवालिया नज़रों से बताती है कि इतनी बड़ी आबादी में सिर्फ एक स्कूल है, सिर्फ पांचवी तक. वो भी हमारे घर से लगभग 2 किलोमीटर दूर. और उर्दू की पढ़ाई भी वहां नहीं होती. अब आप ही बताइए कि हमारे इलाकों के बच्चों के शिक्षा का अधिकार कहां है?
26 वर्षीय इरम अशरफ का कहना है कि पानी के लिए यहां हाहाकर मचा रहता है. पिछले 4 दिनों में हमारे घर में पानी नहीं आया है. बिजली के बारे में पूछने पर इरम बताती है कि बिजली में पहले से सुधार ज़रूर हुआ है. पहले 8-10 घंटे बिजली रहती थी. अब 13-14 घंटे ज़रूर रहती है.
40 साल से बुनकरी का काम कर रहे हुसैन काफी मायूस होकर कहते हैं कि सारी चीज़ों का दाम बढ़ गया है, पर बुनकरों की आज भी एक दिन की कमाई 200 रूपये से उपर नहीं जाती.  आगे वो यह भी बताते हैं कि आज के टाइम रिक्शा चलाने या इंटा जोड़ने वाला भी रोज़ के 500 रूपये कमा ले रहा है, लेकिन हमारी अधिक से अधिक 200 हो पाती है. हमारी 4 बेटियां हैं, शादी कैसे करूंगा यह सोचकर मैं पागल हो जाता हूं.
©BeyondHeadlines 27 वर्षीय नईमुद्दीन रेशम की धुलाई करने में व्यस्त हैं. जैसे ही उनके पास पहुंचते हैं. काम करते-करते वो हमसे ही पूछता है –फिर इलेक्शन आ गया है क्या? आप मीडिया वालों को तो गरीबों की याद चुनाव के समय ही आती है.
उसकी बातों से मीडिया के प्रति उसका गुस्सा साफ झलकता है. वो बताता है कि आपसे बात करने का आखिर फायदा ही क्या है? सब तो बिके हुए हो. हम जो बोलेंगे वो तो आप दिखाओगे नहीं…. और फिर वो काम लग जाता है. इससे आगे हमसे कुछ भी बात करने से इंकार कर देता है.
मानवाधिकार जन निगरानी समिति से जुड़ी सामाजिक कार्यकर्ता गज़ाला क़मर काफी दिनों से इस इलाके में काम कर रही हैं. उनके मुताबिक इस इलाके में एक भी बैंक नहीं है. इतने बड़े इलाके में सिर्फ एक छोटा सा स्वास्थ्य केन्द्र है, जो सिर्फ 3 घंटे के लिए खुलता है. उसमें भी सिर्फ एक ही डॉक्टर है. लोगों को ज़्यादातर प्राइवेट डॉक्टर्स के पास जाना पड़ता है. उसमें भी हैरानी की बात यह है कि यह प्राइवेट डॉक्टरों में भी सब झोला छाप डॉक्टर ही हैं.
वो आगे बताती हैं कि यहां के लोगों को नए बिजली कनेक्शन भी नहीं मिल पा रहा है. बिजली विभाग ने अभी कई घरों के बिजली का कनेक्शन काट दिये हैं. वजह पूछने पर वो बताती हैं कि क्योंकि उनका बिजली का बिल बकाया था. पर यह आरोप लगाती है कि बिजली विभाग वाले जान-बुझकर चार-पांच महीनों तक बिजली का बिल भेजते ही नहीं. जब ज्यादा बिल हो जाता है तो बीच में ही कोई अधिकारी बिल माफ कराने का लालच देकर कुछ पैसे लेकर चलते बनता है, लेकिन बाद में बिजली विभाग कनेक्शन काट देता है. तब यह गरीब बुनकर खुद को ठगा हुआ महसूस करते हैं.
गज़ाला के मुताबिक इतने बड़े क्षेत्र में सिर्फ 16 आंगनबाड़ी केन्द्र हैं. वहां भी सुविधा के नाम पर कुछ भी नहीं है. कई मुहल्लों के लोग सरकार के इन तमाम सुविधाओं से महरूम हैं. वो बताती हैं कि पिछले साल कुपोषण के कारण इस इलाके 8-10 बच्चों की मौत हुई थी. अब भी हालात ऐसे ही बन रहे हैं. गरीबी का आलम यह है कि एक बाप अपनी ही 10 साल की बेटी को बेच डालता है….  मानवाधिकार जन निगरानी समिति इस मामले की लड़ाई लड़ रही है. हमारे ही शिकायत पर राष्ट्रीय मानव अधिकार आयोग ने ज़िलाधिकारी को नोटिस जारी किया है.
बुनकरों का भरोसा जीतने के लिए मोदी और उनकी पार्टी के तमाम वायदे आज भी सूरज के उगने का इंतज़ार कर रहे हैं. आज बुनकरों का पुरा इलाका ही पिछड़ेपन और बदहाली के अंधेरों में डुबा हुआ है.  तो क्या यह मान लिया जाए कि बुनकरों को लेकर किए गए मोदी के चुनावी वायदे महज़ एक चुनावी स्टंट भर थे कि रात गई और बात गई. बजरडीहा आज भी ज़िन्दा है, अपने साथ हुए धोखे की इसी कहानी के साथ, धोखा जो बार-बार होता है, धोखा जो हर बार होता है….